Top 10 Famous Bhajan Singers in India: ये हैं 10 सबसे बेहतरीन भजन गायक

भजन जो की एक ऐसा गीत है, जिसे भगवान को प्रसन्न करने और उनके प्रति अपने स्नेह को दर्शाने के लिए गाया जाता है। बहुत से भक्त भगवान के प्रति अपने स्नेह को दर्शाने के लिए अलग-अलग भजन गाया करते हैं। 

भजन अलग-अलग भाषाओं में गाये जाते हैं जैसे हिंदी, मराठी, तेलगु, बंगाली, भोजपुरी, अवधि, इत्यादि। भजन के जरिये गायक द्वारा प्राचीन इतिहास और बहुत से कहानियों को सुनाया जाता है। इसके साथ ही भजन के माध्यम से गायक भगवान की भक्ति में श्रोताओं को लीन कर देते हैं। 

आज इस ब्लॉग में, हम आपको Top 10 Famous Bhajan Singers in India के बारे में बताने वाले हैं। ये सिंगर्स अपनी मधुर आवाज के लिए मशहूर हैं। 

1. Anup Jalota ( अनूप जलोटा )

Top 10 Famous Bhajan Singers in India की बात करें तो उसमे अनूपा जलोटा जी पहले स्थान पर हैं। इन्हें भजन सम्राट भी कहा जाता है, इसके साथ ही यह एक प्रसिद्द bhajan singers, और एक्टर भी हैं। भारत के भजन साहित्य में अनूप जी का बहुत बड़ा योगदान है। 2012 में अनूप जी को भारत सरकार द्वारा पद्म्श्री अवार्ड से सम्मानित किया गया था। अनूप जी ने अपने सिंगिंग करियर की शुरुवात आल इंडिया रेडियो पर कोरस सिंगर के रूप में की थी। इसके बाद उन्होंने कई शानदार भजन भी गए हैं, जिनमे से ऐसी लागि लगन, मैं नहीं माखन खायो, जग में सुन्दर हैं दो नाम, जैसे भजन बहुत प्रसिद्द हैं।

2 . Sandeep Bansal (संदीप बंसल)

संदीप बंसल, इन्होने अपनी संगीतकारी की शुरुआत 2016 में किया था। इसके साथ ही इनके गानों को टी-सीरीज द्वारा प्रमोट भी किया गया था। इनकी मधुर आवाज़ की वजह से इनके कई गानें और भजन बहुत प्रसिद्द हैं। इन्होने बहुत से क्लासिकल सांग्स, और भजन अलग-अलग सिंगर्स जैसे, साधना सरगम, कविता पौडवाल, और अलका याग्निक के साथ कंपोज़ किया है। इनके कुछ प्रसिद्द भजन ‘आरती कुंज विहारी की, जादूगर सावंरिया, और मैं पतंग हूँ प्यारे हैं।

3. Anuradha Paudwal (अनुराधा पौडवाल )

अनुराधा पौडवाल 80 और 90 की दसक की सबसे सफल best bhajan singers in india में से एक थीं । अनुराधा जी को कई फ़िल्म्फरे अवार्ड, ओडिसा राज्य फिल्म पुरस्कार, और पद्मश्री अवार्ड से भी सम्मानित किया गया है। इन्होने फिल्म इंडस्ट्री छोड़ने के बाद भजन गायिका के रूप में काम करना शुरू कर दिया। इसके बाद उन्होंने एक पे एक भक्ति गाने और भजन निकालें जो लोगों को काफी ज्यादा पसंद भी आएं। अनुराधा जी ने कई भाषाओं में लगभग 9000 से अधिक गाने और 1500 से अधिक भजन गएँ हैं। हिंदी भजन के आलावा उन्होंने सिख, इसाई, इस्लामिक, जैन और बौद्ध धर्म के भजन भी गाये हैं। ॐ जय आंबे गौरी, अब मैं नाच्यो बहुत, बसों बसों मेरी, और हाँ मत मेरी, इनके कुछ प्रसिद्द भजन हैं। 

4. Vishnu Bhatnagar (Kumar Vishnu) (विष्णु भटनागर)

विष्णु भटनागर जिनका स्टेज नाम कुमार विष्णु हैं, एक सफल और प्रसिद्द भजन गायक हैं। लोग इनके आवाज़ के दीवाने हैं। इसके साथ ही कुमार विष्णु को भजन, भक्ति संगीत, ग़ज़ल और सुंदरकांड पाठ की मधुर शैली के लिए भी जाना जाता है। कुमार विष्णु टॉप भजन गायकों में से एक हैं जिन्होंने कई प्रसिद्ध गायको के साथ मिलकर 200 से अधिक भजन गाया है। कुमार विष्णु को सिनेमा सेंचुअरी अवार्ड और प्रेजिडेंट अवार्ड द्वारा भी सम्मानित किया गया है। हिंदी भाषा को छोड़ इन्होने टी सीरीज के साथ मिलकर पंजाबी और राजस्थानी जैसे कई भारतीय भाषाओं में भी भजन गाया है। इसके साथ ही, बाहरी देशों में भी इन्होने कई स्टेज शो भी किये हैं। इनके हनुमान गाथा, कभी प्यासे को पानी पिलाया नहीं, घर घर में है रावण बैठा, कबीर अमृत वाणी, उड़ जा हंस अकेला, कर्मो की है मैया जैसे भजन बहुत लोकप्रिय हैं। 

5. Hariharan ( हरिहरन )

हरिहरन जो की एक प्रतिष्ठित भारतीय भजन और ग़ज़ल गायक हैं, उन्होंने भक्ति उत्साह के साथ भजन गायन में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। हरिहं जी 3 अप्रैल, 1955 को त्रिवेन्द्रम में जन्मे हैं और मुंबई में पले-बढ़े हैं। इन्हे इनके माता-पिता द्वारा कर्नाटक संगीत में प्रशिक्षित किया गया है और बाद में उस्ताद गुलाम मुस्तफा खान द्वारा हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीत में प्रशिक्षित किया गया है। इस दोहरे आधार ने उनकी गायन शैली को और ज्यादा बेहतर किया है, जिससे उनके भजन बहुत ही भावनात्मक और आध्यात्मिक रूप से गुनगुनाने योग्य होते हैं।

हरिहरन के प्रसिद्द भजनों में “अच्युतम केशवम कृष्ण दामोदरम”,  “ओम जय जगदीश हरे”,और “रघुपति राघव राजा राम” शामिल हैं। हरिहरन के आवाज़ की स्पष्टता और मधुरता, उनके भजनों के भक्ति सार को और बढ़ाती है। 

इसके साथ ही इन्हें पद्म श्री सहित कई पुरस्कारों से भी सम्मानित किया गया है। 

6. Hariom Sharan ( हरिओम शरण )

हरिओम शरण एक प्रसिद्ध भजन गायक थे जिनकी आवाज में एक अनोखा भक्ति रस नजर आता है। इनका जन्म लाहौर में हुआ था, विभाजन के दौरान हरिओम जी भारत चले आए थे और इसके बाद उन्होंने बहुत से भजन गाये। जिससे वह देश के सबसे प्रिय भजन गायकों में से एक बन गए।

उनकी सादगी और ईमानदारी की विशेषता वाले उनके भजनों में “तेरा राम जी करेंगे,” “श्याम बिना चैन कहां रे,” और “राधे राधे गोविंद राधे” बहुत लोकप्रिय हैं। इसके  साथ ही हरिओम शरण का संगीत कई लोगों के लिए सांत्वना और प्रेरणा का स्रोत बना हुआ है।

7. Suresh Wadkar (सुरेश वाडकर)

सुरेश वाडकर एक प्रिसद्ध गायक हैं जो भक्ति संगीत के साथ-साथ कई अलग संगीत शैलियों में अपनी बहुमुखी प्रतिभा और महारत के लिए जाने जाते हैं। सुरेश जी का जन्म महाराष्ट्र के कोल्हापुर में हुआ था, उन्होंने प्रसिद्ध संगीत शिक्षकों के मार्गदर्शन में प्रशिक्षण लिया और खुद को एक प्रोफेशनल गायक के रूप में स्थापित किया।

भजन गायन में उनकी यात्रा को कई लोकप्रिय भक्ति ट्रैक जैसे “सूरज की गर्मी से,” “गोविंद बोलो हरि गोपाल बोलो,” और “गणनायकाय गणदेवताय” द्वारा दर्शाया गया है। इसके साथ ही सुरेश जी को मदन मोहन अवार्ड, लता मंगेशकर पुरष्कार, और महाराष्ट्रा प्राइड अवार्ड से भी सम्मानित किया गया है। 

8. Pandit Jasraj ( पंडित जसराज )

भारत के सबसे प्रसिद्ध शास्त्रीय गायकों में से एक पंडित जसराज ने भजन गायक के रूप में बहुत गहरा प्रभाव डाला है। इनका जन्म 28 जनवरी, 1930 को पीली मंदोरी, हरियाणा में हुआ था। इन्होने छोटी उम्र से ही संगीत में रूचि दिखाना शुरू कर दिया था, उन्होंने अपने बड़े भाई, पंडित मनीराम और बाद में महाराजा जयवंत सिंह वाघेला से प्रशिक्षण भी लिया था।

अपनी भारी और भावपूर्ण आवाज के लिए प्रसिद्ध, पंडित जसराज की भजन प्रस्तुतियाँ उनके आध्यात्मिक गहराइयों को लिए जानी जाती हैं । उनके भजन, जैसे “ओम नमो भगवते वासुदेवाय” और “मेरो अल्लाह मेहरबान”, उनकी भक्ति और भक्ति गीतों के साथ शास्त्रीय रागों के श्रेष्ठ मिश्रण को दिखाता हैं। भजन गायन में पंडित जसराज के योगदान को भारत के दूसरे सबसे बड़े नागरिक पुरस्कार पद्म विभूषण सहित कई प्रशंसाओं के साथ व्यापक रूप से सम्मानित किया गया है।

9. Mahendra Kapoor ( महेंद्र कपूर )

भारतीय भजन गायन के दिग्गज कलाकार महेंद्र कपूर को उनके भजनों की भावपूर्ण प्रस्तुति के लिए भी जाना जाता है। इनका जन्म पंजाब के अमृतसर में हुआ था, उन्हें कई प्रतिष्ठित संगीतकारों द्वारा प्रशिक्षित किया भी गया था और उन्होंने एक अलग शैली विकसित की जो दर्शकों को बहुत ज्यादा पसंद आई।

महेंद्र कपूर के भजन, जिनमें “ओम जय जगदीश हरे,” “आरती कुंज बिहारी की,” और “मैं तो आरती उतारूं रे संतोषी माता की” शामिल हैं, उनकी भक्ति तीव्रता और संगीत के लिए उनके प्रेम को दर्शाता हैं। भजन गायन में उनके योगदान ने इस शैली पर एक कभी न मिटने वाला छाप छोड़ दिया है।

10. Narendra Chanchal ( नरेंद्र चंचल )

नरेंद्र चंचल एक ऐसे भारतीय गायकार थे, जो अपने गायन और भजनों के लिए जाने जाते थे। नरेंद्र जी का जन्म 16 अक्टूबर 1940 को नमक मंडी, अमृतसर में हुआ था। इनका पालन पोषण एक धार्मिक माहौल में हुआ था, जिससे ये भजन गायन की तरफ ज्यादा आकर्षित हो गए थे। जिसके बाद उन्होंने बहुत से भजन और आरती गाये। इसके साथ ही उन्होंने अपना एक जीवनचरित्र भी लिखा है जिसका नाम ‘मिडनाइट सिंगर’ है। नरेंद्र जी के संकट मोचन नाम तिहारो, चलो बुलावा आया है, अम्बे तू है जगदम्बे काली, हनुमान चालीसा, तूने मुझे बुलाया शेरावालिये, राम से बड़ा राम का नाम जैसे प्रसिद्द भजन इनकी आस्था और संगीत के प्रति प्रेम को दर्शाते हैं। 

निष्कर्ष

आसा है आपको Famenest News Hindi के इस ब्लॉग को पढ़कर Top 10 Famous Bhajan Singers in India के बारे में पता चल गया होगा। हमने हमारे हिसाब से टॉप 10 लिस्ट तैयार की है। जिसमे उनके लोकप्रिय भजन के आधार पर रैंकिंग दी गयी है। इससे आपको टॉप 10 hindi bhajan singers list के बारे में भी पता चल गया होगा। ऐसे ही और ब्लॉग पढ़ने के लिए हमें आप यूट्यूब पे भी सब्सक्राइब कर सकते हैं। 

Leave a Comment