Neet Exam Kya Hota Hai: डॉक्टर बनना है तो ये जानना ज़रूरी है

NEET exam kya hai? Qualification, Eligibility, Fee and more

मेडिकल की तैयारी करने वाले छात्रों के लिए NEET एक महत्वपूर्ण एग्जाम है। पहले समझना है कि NEET क्या है (NEET kya hai in hindi). NEET full form है नेशनल एलिजिबिलिटी कम एंट्रेंस टेस्ट, जो NTA (नेशनल टेस्टिंग एजेंसी) आयोजित करती है। इसका मुख्य उद्देश्य भारत में मेडिकल (अंडरग्रेजुएट) सीटों में प्रवेश प्रदान करना है। NEET परीक्षा साल में एक बार होती है और इसमें MBBS, BDS, AYUSH, B.V.Sc & AH के कोर्सों के लिए प्रवेश का मौका मिलता है।

हर साल लाखों छात्र NEET की तैयारी करते हैं और अलग-अलग मेडिकल क्षेत्रों में अपनी पढ़ाई किया करते हैं। आमतौर पर, NEET की तैयारी करने वाले छात्र MBBS के करने का देखते हैं, लेकिन यह बिल्कुल आवश्यक नहीं है। डॉक्टर बनने के लिए मेडिकल में कई तरह के कोर्स होते हैं, जिनके माध्यम से छात्र अपने सपनों को पूरा कर सकते हैं। इस ब्लॉग में हम नीट के बारे में विस्तार से जानेंगे।  

NEET क्या होता है?

Neet exam kya hai? जानने के लिए, इसकी विस्तार से जानकारी लेना बहुत जरुरी है। NEET भारत भर में यूजी और पीजी स्तर के चिकित्सा छात्रों को एमबीबीएस और बीडीएस के कोर्स में प्रवेश देने वाली एक राष्ट्रीय परीक्षा है। NEET द्वारा पास करके छात्र AIIMS जैसे अग्रणी चिकित्सा विश्वविद्यालय में प्रवेश पा सकते हैं। NEET परीक्षा हर साल एक बार आयोजित की जाती है और लगभग 16 लाख छात्र हर साल इसकी परीक्षा देते हैं।

2013 से पहले, NEET को अखिल भारतीय प्री मेडिकल परीक्षा (AIPMT) के नाम से जाना जाता था। लेकिन 2013 में सुप्रीम कोर्ट ने इसे अमान्य घोषित कर दिया था। लेकिन फिर 2016 में, NEET की प्रवेश परीक्षा फिर से प्रारंभ हुई। NEET परीक्षा देकर छात्र चिकित्सा क्षेत्र में यूजी और पीजी स्तरों की शिक्षा प्रारंभ कर सकते हैं। NEET परीक्षा चिकित्सा और दंत चिकित्सा दोनों कोर्स के लिए होती है। 2018 तक, NEET परीक्षा को CBSE ही कराता था और Parametric Testing Private Limited उसका सहयोगी कंपनी था।

लेकिन 2019 से, NEET परीक्षा का आयोजन National Testing Agency (NTA) करती है और इससे परिणाम स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के डायरेक्टर जनरल को सौंपा जाता है। हालांकि कुछ विशेष कानून के चलते, NEET की प्रवेश परीक्षा में AIIMS और Jawaharlal Institute of Postgraduate Medical Education and Research (JIPMER) शामिल नहीं होते हैं।

नीट करने के फायदे क्या हैं?

  • NEET करने के फायदे कुछ इस प्रकार हैं:
  • NEET करने के सबसे बड़े फायदे हैं कि पहले आपको सिर्फ एक ही परीक्षा देनी होती है।  क्योंकि, पहले अलग-अलग मेडिकल कॉलेजों में एडमिशन लेने के लिए अलग-अलग एंट्रेंस टेस्ट देना पड़ता था। अब NEET की वजह से, स्टूडेंट्स को मेडिकल कोर्स में ग्रेजुएट होना है तो उनको अलग-अलग एंट्रेंस टेस्ट के बजाय सिर्फ एक ही टेस्ट देना होगा। 
  • NEET की वजह से, स्टूडेंट्स के ऊपर से जो अलग-अलग परीक्षाओं की तैयारी करने का बोझ था, अब सिर्फ एक ही एग्जाम होता है।

NEET के लिए योग्यता क्या होनी चाहिए ?

प्रवेश के लिए छात्र की आयु कम से कम 17 वर्ष होनी चाहिए। 

उम्मीदवार को भौतिक विज्ञान, रसायन विज्ञान, जीव विज्ञान/जैव प्रौद्योगिकी और अंग्रेजी जैसे विषयों में 12वीं कक्षा में व्यक्तिगत रूप से 50% अंकों के साथ पास हुआ होना चाहिए।

एससी/एसटी/ओबीसी श्रेणी के उम्मीदवारों को थोड़ा लाभ है, क्योंकि उनके लिए एचएससी परीक्षा में भौतिकी, रसायन विज्ञान और जीवविज्ञान/जैव प्रौद्योगिकी में एलिजिबल होने के लिए न्यूनतम 40% अंक ही चाहिए।

ऊपरी आयु सीमा सुप्रीम कोर्ट के फैसले के अनुसार है, इसलिए सभी उम्मीदवारों को अस्थायी रूप से परीक्षा में बैठने की अनुमति है।

जो छात्र 12वीं में है या पास हो गया है, वह NEET के लिए आवेदन कर सकता है। 12वीं की परीक्षा पास करने के बाद ही उनका एडमिशन पक्का होता है। उन छात्रों के लिए जो भौतिकी, रसायन विज्ञान, जीवविज्ञान (वनस्पति विज्ञान, प्राणीशास्त्र)/जैव-प्रौद्योगिकी में से किन्हीं दो में होना होता है, या बीएससी से उत्तीर्ण होना चाहिए।

NEET के लिए आयु सीमा क्या है ?

प्रवेश परीक्षा के लिए उम्मीदवार की उम्र 17 से अधिक और 25 से कम होनी चाहिए और उन्हें भारत का नागरिक होना चाहिए। यदि उम्मीदवार SC/ST, PH श्रेणी में हैं तो उन्हें 30 वर्ष तक की छूट मिलती है।

NEET में आवेदन के लिए आवश्यक दस्तावेज़ क्या हैं ?

  • आधार नंबर
  • चुनाव पहचान पत्र
  • राशन कार्ड नंबर
  • पासपोर्ट नंबर
  • बैंक खाता नंबर
  • पासपोर्ट नंबर

NEET के आवेदन के लिए फीस कितनी देनी पड़ती है?

जनरल और ओबीसी श्रेणी के उम्मीदवारों के लिए फीस की राशि 1400/- रुपये है और एससी/एसटी, फी श्रेणी के उम्मीदवारों के लिए 750/- रुपये होगी।

NEET का पेपर कैसा होता है?

नीट परीक्षा के पैटर्न में भौतिकी, रसायन विज्ञान, और जीव विज्ञान से संबंधित बहुविकल्पीय प्रश्न (MCQ) शामिल किए जाते हैं। इस परीक्षा में कुल 180 प्रश्न पूछे जाते हैं।

  • भौतिक विज्ञान: 45 प्रश्न, कुल मार्क्स 180
  • रसायन विज्ञान: 45 प्रश्न, कुल मार्क्स 180
  • जूलॉजी: 45 प्रश्न, कुल मार्क्स 180
  • वनस्पति विज्ञान: 45 प्रश्न, कुल मार्क्स 180

कुल अंक: 720

परीक्षा की अवधि: 03 घंटे

NEET UG तथा NEET PG में अंतर

NEET UG, यानी अंडरग्रेजुएट NEET exam, जो MBBS और BDS जैसे कोर्सेज में एडमिशन के लिए होती है। 

और, NEET PG, यानी पोस्टग्रेजुएट NEET exam, जो MS और MD जैसे प्रोग्राम्स में एडमिशन के लिए ली जाती है। 

NEET Full Form in Hindi

NEET का हिंदी में फुल फॉर्म राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा (National Eligibility cum Entrance Test) है। 

NEET पास करने के बाद क्या होता है?

NEET पास करने के बाद, उम्मीदवारों को NEET काउंसलिंग प्रक्रिया में भाग लेना होता है। इस प्रक्रिया में, उम्मीदवारों को अपनी रैंक और पसंद के आधार पर मेडिकल कॉलेजों में प्रवेश दिया जाता है।

NEET 2024 के लिए Important बातें

  • आवेदन: Neet exam 2024 के लिए आवेदन पत्रों की उम्मीदवारों को अगले मार्च में ntaneet.nic.in पर रिलीज़ होने की उम्मीद की जा रही है। प्रवेश परीक्षा में भाग लेने के लिए आवेदन को आखिरी तारीख से पहले सबमिट करना होगा।
  • प्रवेश पत्र: पंजीकरण के बाद, उम्मीदवारों को NEET प्रवेश पत्र को ध्यानपूर्वक देखना चाहिए।
  • ध्यान दें:  परीक्षा की तारीख से पहले NEET एडमिट कार्ड को आधिकारिक वेबसाइट पर जारी किया जाएगा।
  • परीक्षा तारीख और दिशानिर्देश: परीक्षा की तारीख ऑफिसियल अधिसूचना के साथ जारी की जाएगी। हालांकि, उम्मीदवारों को उन इंस्ट्र्रक्शन्स के बारे में जानकारी होनी चाहिए जो परीक्षा के दिन का फॉलो करना जरुरी होता हैं।
  • आंसर key: NEET परीक्षा के ख़त्म होने के ठीक बाद, उम्मीदवारों को बता दिया जाता है कि वे अनौपचारिक आंसर key के लिए ऑफिसियल वेबसाइट पर विजिट करें। NEET की आधिकारिक आंसर key परीक्षा के एक महीने बाद जारी की जाती है।
  • परिणाम तारीख: परीक्षा के एक महीने बाद प्राधिकरण द्वारा NTA /NEET परीक्षा का रिजल्ट स्कोरकार्ड के रूप में घोसित किया जाता।

NEET परीक्षा में आरक्षण

सामान्य वर्ग वालों के लिए 47.5%, ओबीसी-एनसी के वर्ग लिए 27%, अनुसूचित जाति वर्ग के लिए 15%, अनुसूचित जनजाति वर्ग के लिए 7.5%, और शारीरिक रूप से विकलांग लोगों के लिए 3% आरक्षण होता है। 

नीट में अंक कईसे दिया जाता है?

नीट में आपको हर एक सही उत्तर के लिए 4 अंक और हर एक गलत प्रश्न के लिए -1 दिया जाता है। जिसका अर्थ है, अगर आपका उत्तर गलत है तो आपका 1 अंक काट जायेगा। तो ध्यान दीजियेगा की जो उत्तर आपको आता हो वही टिक करें। 

प्रश्न प्रयासअंकन
सही जवाब+4
ग़लत उत्तर-1

नीट के सिलेबस में क्या-क्या है ?

नीट के सिलेबस NEET Syllabus भौतिक विज्ञानं, रसायन विज्ञानं और जीवविज्ञान से संबंधित प्रश्न पूछे जाते हैं। इन प्रश्नों के आधार पर ही आगे की चयन प्रक्रिया का निर्धारण किया जाता है। 

विषयकक्षा 11वींकक्षा 12वीं
भौतिक विज्ञानभौतिक संसार और माप, गति के नियम, गतिकी, कार्य, ऊर्जा और शक्ति, कणों और कठोर शरीर की प्रणाली की गति, गुरुत्वाकर्षण, थोक पदार्थ के गुण, ऊष्मागतिकी, उत्तम गैस का व्यवहार और गतिज सिद्धांत, दोलन और तरंगें।इलेक्ट्रोस्टैटिक्स, वर्तमान विद्युत, धारा और चुंबकत्व के चुंबकीय प्रभाव, विद्युत चुम्बकीय प्रेरण और प्रत्यावर्ती धाराएँ, विद्युत चुम्बकीय तरंगें, प्रकाशिकी, पदार्थ और विकिरण की दोहरी प्रकृति, परमाणु और नाभिक, इलेक्ट्रॉनिक उपकरण
रसायन विज्ञानरसायन विज्ञान की कुछ बुनियादी अवधारणाएँ, परमाणु की संरचना, तत्वों का वर्गीकरण और गुणों में आवधिकता, रासायनिक बंधन और आणविक संरचना, पदार्थ की अवस्थाएँ: गैसें और तरल पदार्थ, थर्मोडायनामिक्स, संतुलन, रेडॉक्स प्रतिक्रियाएं, हाइड्रोजन, एस-ब्लॉक तत्व (क्षार और क्षारीय पृथ्वी) धातुएँ), कुछ पी-ब्लॉक तत्व, कार्बनिक रसायन-कुछ बुनियादी सिद्धांत और तकनीकें, हाइड्रोकार्बन, पर्यावरण रसायन।ठोस अवस्था, समाधान, इलेक्ट्रोकैमिस्ट्री, रासायनिक कैनेटीक्स, सतह रसायन विज्ञान, तत्वों के अलगाव के सामान्य सिद्धांत और प्रक्रियाएं, पी-ब्लॉक तत्व, डी और एफ ब्लॉक तत्व, समन्वय यौगिक, हैलोअल्केन्स और हेलोएरीन, अल्कोहल, फिनोल और ईथर, एल्डिहाइड, केटोन्स और कार्बोक्जिलिक एसिड, नाइट्रोजन युक्त कार्बनिक यौगिक, बायोमोलेक्यूल्स, पॉलिमर, रोजमर्रा की जिंदगी में रसायन विज्ञान।
जीवविज्ञानजीवित विश्व में विविधता, जानवरों और पौधों में संरचनात्मक संगठन, कोशिका संरचना और कार्य, पादप शरीर क्रिया विज्ञान, मानव शरीर क्रिया विज्ञानप्रजनन, आनुवंशिकी और विकास, जीव विज्ञान और मानव कल्याण, जैव प्रौद्योगिकी, इसके अनुप्रयोग, पारिस्थितिकी और पर्यावरण।

Top 10 medical colleges in India

  1. अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स), दिल्ली
  2. पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल एजुकेशन एंड रिसर्च (पीजीआईएमईआर), चंडीगढ़
  3. क्रिश्चियन मेडिकल कॉलेज (सीएमसी), वेल्लोर
  4. राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य और तंत्रिका विज्ञान संस्थान (NIMHANS), बैंगलोर
  5. जवाहरलाल इंस्टीट्यूट ऑफ पोस्टग्रेजुएट मेडिकल एजुकेशन एंड रिसर्च (JIPMER), पुडुचेरी
  6. संजय गांधी स्नातकोत्तर आयुर्विज्ञान संस्थान (एसजीपीजीआईएमएस), लखनऊ
  7. महर्षि मार्कंडेश्वर विश्वविद्यालय, मुलाना
  8. दयानंद मेडिकल कॉलेज और अस्पताल, लुधियाना
  9. यूनिवर्सिटी कॉलेज ऑफ मेडिकल साइंसेज, दिल्ली
  10. जेएसएस मेडिकल कॉलेज, जेएसएस एकेडमी ऑफ हायर एजुकेशन एंड रिसर्च, मैसूर

FAQs

नीट का क्या फुल फॉर्म है?

राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा (National Eligibility cum Entrance Test) NEET का फुल फॉर्म है।

नीट का आयोजन कौन करता है?

राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी (एनटीए) इस परीक्षा का आयोजन करती है।

नीट का आरंभ किसने और क्यों किया?

भारत में स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय (MoHFW) ने बेहतर चिकित्सा और दंत चिकित्सा शिक्षा के लिए एकल प्रवेश परीक्षा, अर्थात् NEET , की शुरुआत की।

नीट प्रवेश के लिए कॉउंसलिंग कौन संचालित करता है?

नीट यूजी परीक्षा में सफल उम्मीदवारों के लिए मेडिकल काउंसलिंग कमेटी (MCC) 15% सीटों के लिए आयोजित होती है, जबकि बाकी 85% सीटें राज्य स्तरीय एडमिशन और निजी संस्थानों के लिए राज्य प्रवेश समितियों द्वारा काउंसलिंग की जाती हैं।

NEET में कितने सब्जेक्ट होते हैं ?

NEET में कुल 3 सब्जेक्ट होते हैं: भूतिकी, रसायन विज्ञान और जीव विज्ञान।  

Leave a Comment