Debit and credit meaning in Hindi

Debit and credit meaning in Hindi – जब आपके खाते में राशि जमा की जाती है या निकाली जाती है तो आपके फोन में बैंक अकाउंट से एसएमएस भेजा जाता है कि आपके अकाउंट में निम्न लिखित राशि निकाली गई है व सफलता पूर्वक जमा की गई है। बैंक द्वारा मैसेज ग्राहकों को अवगत करवाने के लिए भेजी जाती है परंतु SMS में उपयोग किए जाने वाले शब्द डेबिट और क्रेडिट का अर्थ हर किसी को समझ में नहीं आता।

अगर आपको बैंक अकाउंट के SMS में उपयोग किए जाने वाले Debit और Credit का साधारण अर्थ नही मालूम तो इस आर्टिकल को पूरा पढ़िए, हम आपको आसान भाषा में बताएंगे की डेबिट और क्रेडिट का मूल अर्थ क्या है व इसका उपयोग क्यों किया जाता है।

Debit and credit meaning in bank in Hindi:-

अगर आपका किसी भी बैंक में खाता है तो डेबिट और क्रेडिट का अर्थ समझना बहुत जरूरी है। आपके खाते में कितना पैसा है या कितना पैसा निकाला गया है, इसको आप डेबिट और क्रेडिट से समझ सकते है। साधारण शब्दों में डेबिट का अर्थ होता है खाते से जमा राशि से राशि का निकालना या कम होना। उसी प्रकार क्रेडिट का अर्थ इससे विपरीत होता है, इसका मतलब होता है खाते में राशि का जमा होना व जुड़ना।

डेबिट और क्रेडिट का अर्थ एक दूसरे से बिल्कुल विपरीत होता है इसलिए इन शब्दों को समझना बहुत आसान है। अगर आप डेबिट और क्रेडिट का अर्थ अच्छे से समझ सकते है तो आप अपने अकाउंट का ट्रांजैक्शन भी समझ पाएंगे।

अक्सर नासमझी के कारण ग्राहकों को नुकसान झेलना पड़ सकता है क्युकी अगर वह डेबिट और क्रेडिट का अर्थ ही नहीं समझेंगे तो उनके खाते में कितनी राशि है इसका अंदाजा भी नहीं लगा पाएंगे और धोखाधड़ी में नुकसान देखना पड़ सकता है। इसलिए अगर बैंक में खाता रखते है तो इन सब शब्दों को जरूर समझे और सभी जानकारियां लें।

Debit and credit meaning in Hindi banking :-

Debit and credit meaning in banking – बैंकिंग में डेबिट का अर्थ खाते से पैसा काटना होता है और क्रेडिट का अर्थ खाते में पैसा जमा होना होता है। पूरे बैंकिंग खाते में डेबिट क्रेडिट का अर्थ एक ही है। डेबिट क्रेडिट के अलावा transfer या withdraw शब्द का भी इस्तेमाल किया जाता है। अगर आप किसीको पैसे भेज रहे है उसके अर्थ है वह राशि आपके अकाउंट से काटी जायेगी और दूसरे के अकाउंट में भेजी जाएगी तो वह डेबिट व ट्रांसफर शब्द का प्रयोग किया जाएगा। अगर आपके खाते में पैसे भेजे जाएंगे व जमा किया जाएगा तो वह क्रेडिट और withdraw शब्द का प्रयोग होगा। बैंक द्वारा नीतिगत मैसेज भेजे जाते है जिसके उदाहरण द्वारा आप इसे आसानी से समझ पाएंगे।

उदाहरण

Debit example:- जैसे कि आपके खाते से 100 रुपए भेजे जा रहे है तो बैंक द्वारा निम्न SMS भेजे जाते है-

Rs.100 Debited from A/c …0722 to:UPI/309480365254. Total Bal:Rs.54.45CR. Avlbl Amt:Rs.54.45(04-04-2023 12:35:06) – Bank of Baroda

या

Rs.100 transferred from A/c …0722 to:UPI/309480365254. Total Bal:Rs.54.45CR. Avlbl Amt:Rs.54.45(04-04-2023 12:35:06) – Bank of Baroda

Credit example :-

किसी ने अगर आपके खाते में पैसे भेजे है तो वह राशि आपके अकाउंट की राशि के साथ जुड़ेगी व जमा होगी। जिसका SMS कुछ इस प्रकार होता है :-

Rs.165 Credited to A/c …0922 thru UPI/309461040055 by 7881569495_ibl. Total Bal:Rs.234.45CR.Avlbl Amt:Rs.234.45 (04-04-2023 13:05:01) – Bank of Baroda

या

Rs.165 Withdraw to A/c …0922 thru UPI/309461040055. Total Bal:Rs.234.45CR. Avlbl Amt:Rs.234.45(04-04-2023 13:05:01) – Bank of Baroda

इन्हें भी पढ़ें:-

Debit and credit meaning in accounting in Hindi:-

नियानुसार Accounting में Credit और Debit को दो tool माना गया है। बिजनेस में फाइनेंशियल सिस्टम को मैनेज करने के लिए डेबिट और क्रेडिट बहुत जरूरी है। इससे ट्रांजैक्शन रिकॉर्ड करने में मदद मिलती है। अकाउंटिंग में डेबिट क्रेडिट से रिकॉर्ड आसानी से समझ आती है।

  • Accounting में debit को Dr से दर्शाया जाता है जो कि एसेट या एक्सपेंसेस को बढ़ाता है और इक्विटी , लायबिलिटी या रेवेन्यू को घटाता या कम करता है। अकाउंटिंग में डेबिट की एंट्री लेफ्ट साइड यानी की बाएं हाथ कि तरफ की जाती है।
  • Accounting में क्रेडिट को Cr से दर्शाया जाता है जो कि एसेट या एक्सपेंसेस को घटाता है और इक्विटी , लायबिलिटी या रेवेन्यू को बढ़ाता  है। अकाउंटिंग में डेबिट की एंट्री राइट साइड यानी की दाएं हाथ कि तरफ की जाती है। अर्थात डेबिट और क्रेडिट दोनों ही एक दूसरे के विपरीत होते है।

Debit and credit meaning in Double entry bookkeeping in Hindi:-

डबल एंट्री बुक कीपिंग में डेबिट और क्रेडिट का सिस्टम थोड़ा भिन्न होता है हालाकि अकाउंटिंग में डेबिट और क्रेडिट के अर्थ जैसा ही होता है। इसमें बिजनेस से संबंधित सभी रेकॉर्ड्स को लेजर के दो कॉलम डेबिट और क्रेडिट में एंट्री किया जाता है। जैसा कि हमने अकाउंटिंग में डेबिट क्रेडिट का अर्थ बताया इसका अर्थ भी वही है। अगर आप इसके ऊपर वाले बिंदु को समझ गए है तो इसको भी आसानी से समझ सकते है।

जिस अकाउंट से पैसे निकाल कर आते है उसे source account कहा जाता है, उसकी एंट्री क्रेडिट वाले कॉलम में की जाती है। और जिस अकाउंट में पैसा जमा होता है उसे destination account कहा जाता है, उसकी एंट्री डेबिट वाले कॉलम में की जाती है। Double entry bookkeeping में भी डेबिट कॉलम बाएं तरफ और क्रेडिट कॉलम दाएं तरफ होता है। इसमें हर transaction को दोनों तरफ लिखा जाता है इसलिए इसे double entry bookkeeping बोलते है इसमें कुल डेबिट और क्रेडिट दोनों ही बराबर होते है।

निष्कर्ष:-

आज के समय में लगभग हर व्यक्ति बैंक से जुड़ा होता है पैसा निकलने के लिए या फिर पैसे जमा करने के लिए वजह चाहे जो भी हो पर हर व्यक्ति का अपना एक पर्सनल बैंक अकाउंट होता है। बहुत से लोगो को debit और credit ka मतलब पता होता है पर बहुत से लोग इसके अर्थ से अनजान रहते है। इस आर्टिकल में हमने आपको Debit और Credit का अर्थ साधारण भाषा में समझाया है, आशा है इस आर्टिकल के माध्यम से आपको जानकारी मिली होगी।

Please share this article

Leave a Comment